अन्य

मोदी सरकार ने प्रदेश के सर्व शिक्षा अभियान की राशि में की कटौती…प्रधानमंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह ने स्कूली छात्रों के साथ किया अन्याय-विकास तिवारी

रायपुर। छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने शिक्षा की गुणवत्ता में प्रदेश का स्थान 18वां आने पर कहा कि इनके जिम्मेदार देश के प्रधानमंत्री मोदी और प्रदेश के पूर्व मुखिया डॉ रमन सिंह है। विकास ने आंकड़ो सहित बताया कि कैसे पिछले 15 सालों में भाजपा राज में सरकारी स्कूलों की हालत खस्ता की गयी थी।

उन्होंने बताया कि स्कूली शिक्षा विभाग में शिक्षाकर्मियों के लगभग 50 हजार पद रिक्त रहे और पंचायत संवर्ग के शिक्षकों के 22,644 पद रिक्त है। गणित, फिजिक्स, केमिस्ट्री, अंग्रेजी एवं कॉमर्स के सभी शिक्षको की भारी कमी के कारण शालेय शिक्षा की गुणवक्ता के क्षेत्र में देश में सबसे खराब प्रदर्शन वाले राज्यों में शामिल हुआ।



WP-GROUP

केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत राज्य के आबंटन में निरंतर कमी की गयी थी जिसमे वर्ष 2014-15, 2015-16 एवं 2016-17 में केंद्र से क्रमश: 27.05 करोड़, 622.1 करोड़, 592.62 करोड़ तथा 457.45 करोड़ ही प्राप्त हुये थे।

क्या कारण थे कि केंद्र की मोदी सरकार प्रधानमंत्री के प्रचार-प्रसार के लिये पांच हजार करोड़ से ज्यादा फूंक देती है पर शिक्षा के मद में दी जाने वाली राशि को साल दर साल कम किया गया।

प्रवक्ता विकास तिवारी ने यह भी बताया की पिछले 15 सालों के भाजपा शासन में प्रदेश के शासकीय प्राथमिक शालाओं में कुल दर्ज छात्र-छात्राओं की संख्या में लगातार कमी आ रहीं थी। वर्ष 2014-15 में 21,05,095 छात्रों से घटकर यह संख्या 2017-18 में 18,10,853 मात्र रह गयी थी, ये रमन सरकार के शासकीय शालाओ की असफलता का परिचायक बन गया है।

Do Subscribe!!!

हमसे जुड़ें