ट्रेंडिंग देश -विदेश

ट्रेन में कंफर्म टिकट नहीं है तब भी HHT के जरिये मिल सकती है सीट, जानें भारतीय रेल की ये नई सुविधा

नई दिल्ली. कम्प्यूटरीकृत ऑन-बोर्ड टिकट जांच और खाली सीट के आवंटन के लिए बने रेलवे के नए हैंड हेल्ड टर्मिनल (HHT) ने पिछले चार महीने में औसतन लगभग 7,000 बिना कन्फर्म सीट वाले यात्रियों को रेलगाड़ियों में प्रतिदिन कन्फर्म सीट प्राप्त करने की सुविधा प्रदान की है. आंकड़ों से यह जानकारी मिली. एचएचटी उपकरण आईपैड के आकार में होते हैं जिनमें पहले से लोड किए गए यात्री आरक्षण चार्ट होते हैं. पहले की तरह कागजी चार्ट से गुजरने के बजाय टिकट जांच कर्मचारी बुकिंग पर रीयल टाइम अपडेट के लिए इन उपकरणों के माध्यम से सर्च कर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, क्योंकि ये यात्री आरक्षण प्रणाली के केंद्रीय सर्वर से जुड़े होते हैं.

इसलिए यदि आरक्षित टिकट वाला कोई यात्री अंतिम समय पर अपनी यात्रा को रद्द नहीं करता है तो खाली सीट एचएचटी उपकरण पर प्रदर्शित होती है, जिससे ट्रेन टिकट परीक्षक (TTE) प्रतीक्षा सूची वाले यात्री या रिजर्वेशन अगेंस्ट कैंसिलेशन (RAC) यात्री को सीट आवंटित कर पाते हैं. इस संबंध में एक अधिकारी ने कहा कि आरएसी या प्रतीक्षा सूची टिकट वाले यात्री वास्तविक समय के आधार पर खाली बर्थ की उपलब्धता के बारे में एचएचटी के माध्यम से टीटीई से जांच करा सकते हैं और इससे रेलगाड़ियों में सीट आवंटन में पारदर्शिता आती है.

चार महीनों में 5,448 RAC और 2,759 WL यात्रियों को मिली सीट
न्यूज एजेंसी को मिले आंकड़ों के अनुसार लगभग चार महीने पहले शुरू की गई परियोजना के तहत करीब 1,390 रेलगाड़ियों के टीटीई प्रतिदिन ट्रेन में अपनी यात्रा के विभिन्न चरणों या अपनी यात्रा के कुछ हिस्सों में लगभग 10,745 एचएचटी ले जा रहे हैं. पिछले चार महीनों में औसतन 5,448 आरएसी यात्रियों और 2,759 प्रतीक्षा सूची वाले यात्रियों को एचएचटी के माध्यम से प्रतिदिन सीट आवंटित की गई.

अप्रयुक्त सीटों को अगले स्टेशन तक किया जाता है आवंटित
आंकड़ों के अनुसार आरएसी या प्रतीक्षा सूची वाले यात्रियों को सीट आवंटन के अलावा लगभग 7000 अप्रयुक्त खाली सीट भी एचएचटी के माध्यम से पीआरएस को प्रतिदिन जारी की जा रही हैं, ताकि उन्हें रेलगाड़ियों के मार्ग पर अगले स्टेशन से बुकिंग के लिए उपलब्ध कराया जा सके. अधिकारियों ने कहा कि अगले तीन से चार महीनों में ये एचएचटी उपकरण साप्ताहिक और द्वि साप्ताहिक सहित लंबी दूरी की सभी ट्रेन में उपलब्ध करा दिए जाएंगे.