ट्रेंडिंग मनोरंजन

‘BIGG BOSS 13’ की मुसीबतें बढ़ीं…अश्लीलता की वजह से प्रसारण रोकने की उठी मांग…

नई दिल्ली। सलमान खान (Salman Khan) के विवादित रिएलिटी शो ‘बिग बॉस 13’ (Bigg Boss 13) की मुसीबतें बढ़ती दिखाई दे रही हैं। हाल ही में सोशल मीडिया पर इस शो को बैन करने की मांग उठ रही थी। वहीं अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है।

कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) (Confederation Of All India Traders) ने आज केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेड़कर को एक पत्र भेजकर कलर्स टीवी (Colors TV) चैनल पर चल रहे टीवी शो ‘बिग बॉस 13’ के प्रसारण पर तुरंत रोक लगाने की मांग की है। इस पत्र में ‘बिग बॉस’ के सीजन 13 पर कई गंभीर आरोप भी लगाए गए हैं।




‘अश्लीलता और फूहड़ता से भरा’
कैट ने कहा है, ‘बिग बॉस 13’ में बेहद अश्लीलता और फूहड़ता का खुले आम घिनौना प्रदर्शन किया जा रहा है। इस शो को घरेलू माहौल में देखना मुश्किल है और हमारे देश के पुराने पारंपरिक सामजिक और सांस्कृतिक मूल्यों की धज्जियां उड़ाई जा रही हैं।

टीआरपी और मुनाफे की लालच में ‘बिग बॉस’ टीवी चैनल के जरिए देश में सामाजिक समरसता को खत्म कर रहा है। जिसे भारत जैसे देश की विविध संस्कृति वाले देश में कतई अनुमति नहीं दी जा सकती है।’




‘बिग बॉस’ पर बैन की मांग
कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष बीसी भरतिया और राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने जावेड़कर को भेजे पत्र में कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न केवल भारत में, बल्कि उच्चतम विश्व मंचों पर भी देश के सांस्कृतिक मूल्यों की जबरदस्त पैरोकारी कर रहे हैं। इस दृष्टि से इस मामले को तुरंत देखा जाना चाहिए और ‘बिग बॉस’ के शो पर प्रतिबंध लगाए जाएं।

भरतिया और खंडेलवाल ने कहा कि शो ‘बिग बॉस’ हमेशा विवादों में रहा है और इस शो में हमेशा अश्लीलता का बोलबाला रहा है। लेकिन इस बार के शो में नैतिकता की सारी हदें पार कर दी गई हैं।

वर्तमान शो में ‘Bed Friend Forever’ कॉन्सेप्ट की अवधारणा देश की मूल सांस्कृतिक और सामाजिक भावना एवं फिल्म और टेलीविजन के लिए स्थापित नैतिक मानदंडों के खिलाफ है। इस सीरियल के निर्माता भूल गए हैं कि यह टीवी पर प्राइम टाइम स्लॉट है और जब ये शो प्रसारित होता है, सभी उम्र के लोग शो देखते हैं।
WP-GROUP

‘कैसे मिली अनुमति’
इस शो के कंटेंट का का स्तर बेहद सस्ता है। इस कारण से इसे किसी भी राष्ट्रीय टीवी चैनल पर प्रसारित नहीं किया जाना चाहिए। भरतिया और खंडेलवाल ने सवाल उठाया है कि जब फिल्मों को सेंसर बोर्ड के अधीन किया जाता है तो टीवी सीरियल सेंसर बोर्ड के अधीन क्यों नहीं हो सकते?

यदि वे हैं, तो सेंसर बोर्ड ने सीरियल में इस तरह की खुली अश्लीलता, बकवास, सांस्कृतिक उपद्रव और सबसे अधिक अपमानजनक दृश्य और सामग्री को प्रसारित करने की अनुमति कैसे दी?




शो और सलमान खान पर उठाए सवाल
इस पत्र में कहा गया है कि सलमान खान और निर्माता और निर्देशक के साथ सीरियल में परोसी गई शो के संचालन के लिए समान रूप से जिम्मेदार हैं, जो इतनी निम्न स्तर की अश्लीलता दिखाते हैं।

कैट ने केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावेड़कर से आग्रह किया है कि ‘बिग बॉस 13’ पर अंतरिम कदम के रूप में तुरंत प्रतिबंध लगाया जाए। प्रत्येक एपिसोड को सेंसर बोर्ड द्वारा विधिवत प्रमाणित करने के बाद ही प्रसारित करने की अनुमति दी जाए।

यह भी देखें : 

छत्तीसगढ़ : बस्तर दशहरा के बारे में जानिए कुछ और रोचक तथ्य…यहां 9 दिनों नहीं होता पुरुषों का प्रवेश…