टेक्नोलॉजी ट्रेंडिंग देश -विदेश

अब आने वाला है pilotless passenger planes का दौर! जानिए कैसी चल रही हैं तैयारियां

एक पल को सोचिए कि आप फ्लाइट की यात्रा कर रहे हैं और आप जैसे प्लेन में सवार सौ, दो सौ से अधिक यात्रियों की सुरक्षा किसी पायटल के हाथ में नहीं बल्कि एक मशीन के हाथ में हो… यानी ऑटोमेटिक फ्लाइट सिस्टम या दूसरे शब्दों में कहें तो Roboplanes. हां, वो दिन दूर नहीं जब हम-आप पायलटलेस प्लेन में यात्रा कर पाएंगे. सेल्फ ड्राइविंग कारों और ड्राइवरलेस मेट्रो के बाद जल्द ही लोगों को पायलटलेस प्लेन में यात्रा करने को मिल सकता है. ऐसा करना संभव दिखने लगा है. ड्राइवरलेस कारों-पॉड्स और मेट्रो के बाद अब पैसेंजर प्लेन को ऑटोनोमस करने की दिशा में कई कंपनियां तेजी से आगे बढ़ रही हैं.

किस टेक्नीक पर हो रहा है काम?
ऐसे वक्त में जब एयर ट्रैफिक और एयर कार्गो सेवाओं की डिमांड दुनियाभर में बढ़ती जा रही है इंडस्ट्री के लिए ह्यूमैन पावर से आगे अब तकनीक बेस्ड ऑटोनोमस पायलट की ओर बढ़ने का वक्त आ रहा है. मतलब रोबोप्लेन्स… जो न सिर्फ कार्गो के काम में सामान एक जगह से दूसरी जगह पहुंचाने बल्कि पैसेंजर प्लेन को भी चलाने में सक्षम हो सकें. एविएशन कंसल्टेंसी कंपनी AIA और Avascent के अनुमान के अनुसार दुनिया में सेल्फ फ्लाइंग एयरक्राफ्ट का बाजार हर साल 25 फीसदी की दर से आगे बढ़ेगा और साल 2040 तक 325 बिलियन डॉलर तक पहुंच सकता है. इस फील्ड में काम करने के लिए दर्जनों स्टार्टअप्स ने 7 बिलियन डॉलर तक का फंड जुटाया है.

किस कंपनी के ट्रायल के नतीजे कैसे रहे?
अमेरिका में कैलिफोर्निया के बे एरिया में एक्स विंग और रिलायबल रोबोटिक्स और बोस्टन में मर्लिन लैब्स जैसी कंपनियां इस सपने को सच करने की दिशा में तेजी से काम कर रही हैं. जहां कई स्टार्टअप इस दिशा में काम कर रही हैं, वहीं एयरबस और बोइंग जैसी दिग्गज कंपनियां भी इस दिशा में इनोवेशन में जुट गई हैं. एयरबस ने 350 एयरलाइनर के सिस्टम का डेमोन्स्ट्रेशन दिया था जो ऑटोमेटिक तरीके से पार्क, टेक ऑफ और लैंड कर सकता है. इसी तरह बोइंग के पास ऑटोनोमस मिलिटरी एविएशन सिस्टम है लेकिन अब पैसेंजर एविएशन की दिशा में कंपनी काम को आगे बढ़ा रही है.

Xwing और Reliable Robotics के एक्सपेरिमेंट के दौरान एक ऑपरेटर ने एयर ट्रैफिक कंट्रोल के पूरे कम्युनिकेशन ऑपरेशन को ग्राउंड से कंट्रोल किया. खास बात ये भी थी कि ये ऑपरेटर सीधे तौर पर फ्लाइट को उड़ा नहीं रहा था बल्कि सिंपल ग्राफिक्स इंटरफेस के जरिए ये ऑपरेटर प्लेन उड़ाने के निर्देशों को ऑटोनोमस कंट्रोल सिस्टम के लिए बस रिले कर रहा था. इसमें ऑटोनोमस फ्लाइट कंट्रोल सिस्टम को निर्देश दिए जा रहे थे कि कब फ्लाइट को कहां पोजिशन करना है. इस सिस्टम में ऑपरेटर को ये जानने की जरूरत नहीं है कि फ्लाइट को असल में उड़ाते कैसे हैं, या लैंड और टेक ऑफ कैसे करते हैं. इसके लिए ऑपरेटर को ट्रेंड पायलट होना जरूरी नहीं है बल्कि उसे एयर ट्रैफिक कंट्रोल प्रोसिजर के बारे में जानकारी होनी चाहिए.

इसी तरह मर्लिन लैब्स के एक्सपेरिमेंट में वॉयस रिकॉग्निशन और जेनरेशन के जरिए ऑटोनोमस फ्लाइट सिस्टम को एयर ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम के निर्देशों को समझना था और उसे फॉलो करके प्लेन को खुद टेक ऑफ या लैंड कराना था. ये तीनों ही स्टार्टअप्स शुरुआत में लाइट कार्गो सेवाओं के साथ शुरुआत करने के पक्षधर हैं. FedEx, UPS, DHL और Amazon जैसी कंपनियां इस तरह की फ्लाइट्स की बड़ी कस्टमर हो सकती हैं. कंपनियों को उम्मीद है कि पायलटों की बड़ी डिमांड की समस्या को इससे हल किया जा सकेगा. इसके साथ ही, एक पायटल एक तरह की फ्लाइट को उड़ाने के लिए ट्रेंड होता है लेकिन ये ऑटोनोमस सिस्टम हर तरह की फ्लाइट को कंट्रोल करने में सक्षम होगा. खासकर दूरदराज या पहाड़ी और समंदर के इलाकों में भी. इस ऑटोनोमस सिस्टम का इस्तेमाल कभी भी और कहीं भी और लगातार लंबे समय तक किया जा सकेगा. जो कि ह्यूमैन एंगेजमेंट में संभव नहीं है.

इसी तरह फ्रेंच एविएशन कंपनी एयरबस ने भी A350-1000 XWB जेट पर ट्रायल किया था. जिसमें टैक्सिंग, टेक ऑफ और लैंडिंग सब कुछ ऑटोमेटिक सिस्टम से कराया गया. अभी भी जब फ्लाइट हवा में होती है तो कई फंक्शन ऑटोपायलट सिस्टम से संचालित करने का सिस्टम कई कंपनियां इस्तेमाल करती हैं. लेकिन अब निगाह पूरी तरह ऑटोमेशन वाली फ्लाइट्स को विकसित करने की है. कंपनी ने इस सिस्टम को नाम दिया है ऑटोनोमस टैक्सी. दिसंबर 2019 में भी इसी तरह का एक प्रयोग कंपनी ने किया था. इस प्रयोग में पायलट ने प्लेन को रनवे पर लाकर छोड़ दिया और फिर सिर्फ एक दर्शक की तरह सिर्फ देखता रहा. ऑटोमेशन सिस्टम ने आगे की पूरी प्रक्रिया को पूरा किया. बाकी सारा ऑपरेशन और नेविगेशन का काम कंप्यूटर संचालित सिस्टम ने किया.