टेक्नोलॉजी ट्रेंडिंग

5G की रेस के बीच Airtel की बल्ले-बल्ले, हुआ ताबड़तोड़ मुनाफा

टेलीकॉम सेक्टर की दिग्गज कंपनी भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने अपने जून तिमाही के नतीजे सोमवार को पेश किए. 5G की दौड़ के बीच कंपनी को तगड़ा मुनाफा हुआ है .एयरटेल का नेट प्रॉफिट सालाना आधार पर 466 फीसदी बढ़कर 1,607 करोड़ रुपये पर पहुंच गया.

पिछले साल इतना हुआ था लाभ
भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने अपने तिमाही नतीजे (Q1 Result) पेश करते हुए बताया कि इससे पिछले वित्त वर्ष की जून तिमाही तिमाही में 283.5 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था. नतीजे घोषित करते हुए बताया गया कि इस अवधि में कंपनी की परिचालन आय बढ़कर 32,805 करोड़ रुपये रही, जो एक साल पहले जून तिमाही में 26,854 करोड़ रुपये रही थी.

ARPU बढ़कर यहां पहुंचा
मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कंपनी के एवरेज रेवेन्यू पर यूजर (ARPU) में भी इजाफा देखने को मिला है. यह बढ़कर 183 रुपये पहुंच गया, जो पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में 146 रुपये था. नियामकीय फाइलिंग में एयरटेल की ओर से बताया गया कि EBITDA से पहले कंपनी की समेकित आय 25.9 फीसदी बढ़कर 16,604 करोड़ रुपये हो गई, जबकि इसका EBITDA मार्जिन सालाना आधार पर 150 बीपीएस बढ़कर 50.6 फीसदी हो गया.

ग्राहक आधार मजबूत हुआ
नतीजों के मुताबिक, कंपनी की विभिन्न सेवाओं का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों (Custmors) की संख्या में भी तेजी दर्ज की गई है. डिजिटल टीवी (Airtel Digital TV) ग्राहक आधार 17.4 मिलियन पर पहुंच गया है. इसके अलावा एयरटेल पेमेंट्स बैंक (Airtel Payments Bank) ग्राहकों की संख्या में सालाना आधार पर 65 फीसदी की जबर्दस्त वृद्धि देखने को मिली है. सोमवार को एयरटेल के शेयर 0.11 फीसदी की गिरावट के साथ 704.35 रुपये पर बंद हुए.

5जी की दौड़ में दूसरे नंबर पर एयरटेल
हाल ही में संपन्न हुई 5G स्पेक्ट्रम नीलामी (5G Spectrum Auction) में सबसे अधिक बोली लगाने के मामले में सुनील मित्तल (Sunil Bharti Mittal) के नेतृत्व वाली एयरटेल दूसरे नंबर की कंपनी रही. गौरतलब है कि मुकेश अंबानी की रिलायंस जियो (Mukesh Ambani Jio) ने 88,078 करोड़ रुपये खर्च किए. जबकि एयरटेल ने 43,084 करोड़ रुपये लगाए हैं.

तीसरे नंबर पर वोडाफोन-आइडिया (Vodaphone-Idea) रही. कंपनी ने 18,799 करोड़ रुपये खर्च किए हैं. इसके अलावा एशिया के सबसे रईस इंसान गौतम अडानी (Gautam Adani) ने 212 करोड़ रुपये में एक फीसदी से भी कम हिस्सेदारी खरीदी है.