देश -विदेश वायरल स्लाइडर

सिंगल्स के लिए चेतावनी!… SEX किया तो 7 साल की जेल…

स्टेडियम में बैठकर मैच देखने का मजा ही कुछ और है. वो भी तब जब मैच वर्ल्ड कप के हों. मौजमस्ती, पार्टी, शोरशराबा… ये सब मैदान और मैदान के बाहर दोनों जगह देखने को मिलता है. लेकिन नवंबर में कतर में हो रहे FIFA World Cup देखने आने वाले फैन्स को कड़े नियमों का पालन करना होगा.

असल में कतर में सेक्स को लेकर कड़े नियम हैं. पति या पत्नी के अलावा किसी और के साथ सहमति के साथ सेक्स करना भी गैर कानूनी है और कड़ी सजा का प्रावधान हैं. इसलिए कतर आने वाले सिंगल्स अगर किसी के साथ सेक्स करते पकड़े जाते हैं तो उन्हें पुलिस गिरफ्तार कर सकती है. होमोसेक्शुअल रिलेशनशिप में रह रहे कपल पर भी कार्रवाई की जा सकती है.

रूल्स ना मानने वाले दर्शकों को जेल की हवा खानी पड़ सकती है, वो भी एक दो नहीं बल्कि पूरे 7 साल. दरअसल, इस बार फुटबाल वर्ल्ड कप की मेजबानी कतर (Qatar) कर रहा है.

वन-नाइट स्टैंड पर 7 साल तक की जेल
कतर ने अपने यहां आने वाले फुटबॉल फैंस को चेतावनी दी है कि इस साल के फुटबाल वर्ल्ड कप में वन-नाइट स्टैंड (One Night Stand) पूरी तरह से बैन होगा. अगर कोई इसमें लिप्त पाया गया तो वो सात साल तक सलाखों के पीछे जा सकता है.

‘डेली स्टार’ ने कतर पुलिस के हवाले से बताया कि अगर आप पति-पत्नी के रूप में आ रहे हैं, तब तो ठीक है. लेकिन अगर आप इस रूप में नहीं आ रहे हैं, तब सेक्स आपके लिए दूर की कौड़ी साबित हो सकता है.

इस साल के वर्ल्ड कप में पहली बार अनिवार्य रूप से सेक्स प्रतिबंधित है. शोरशराबे वाली पार्टी पर भी बैन है. गौरतलब है कि मैच के बाद शराब पीना-पार्टी करना वर्ल्ड कप में फैंस का ट्रेंड रहा है.

खुले में रोमांस संस्कृति का हिस्सा नहीं
कतर में शादी के बाहर सेक्स और समलैंगिकता गैरकानूनी है. ऐसे में अलग-अलग सरनेम वाले कपल्स को कतर के होटल्स कमरा नहीं दे रहे हैं.

कतर में फीफा 2022 वर्ल्ड कप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नासिर ने कहा है कि हमारे लिए हर फैंस की सुरक्षा सबसे अहम है. खुले में रोमांस हमारी संस्कृति का हिस्सा नहीं है. अगर कोई यहां आ रहा है तो देश के नियमों का पालन करना ही होगा.

वहीं, कतर फुटबॉल एसोसिएशन के महासचिव मंसूर अल अंसारी ने कहा है कि वह खेलों में इंद्रधनुष रंग वाले झंडे पर प्रतिबंध लगाने पर भी विचार कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अगर आप LGBTQ के बारे में अपना विचार प्रदर्शित करना चाहते हैं तो फिर इसे ऐसे समाज में प्रदर्शित करें जहां इसे स्वीकार किया जाए.