छत्तीसगढ़ स्लाइडर

सूरजपुर: कलेक्टर ने ली राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक… प्रक्रियाधिन कार्य को शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिए…

सूरजपुर: कलेक्टर डॉ. गौरव कुमार सिंह की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में राजस्व विभाग की समीक्षा बैठक ली गई। समीक्षा बैठक में कलेक्टर ने सीमांकन, नामान्तरण के प्रकरण को लक्ष्य निर्धारित कर शीघ्र निराकरण करने के निर्देश दिए। उन्होंने राजस्व मामले से संबंधित लंबित एवं प्रक्रियाधिन है उस कार्य को शीघ्र प्रारंभ कर प्रकरण निराकरण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने अभिलेख त्रुटि सुधार की स्थिति आधार सीडिंग की प्रविष्टि की जानकारी ली तथा आधार सीडिंग मोबाइल नम्बर लेने किसान ऋण पुस्तिका की प्रविष्टि के कार्य में प्रगति लाने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने आरबीसी 6(4) की जानकारी ली तथा उन्होने राजस्व विभाग के सभी अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि आरबीसी 6(4) के जितने भी प्रकरण आते है उस पर तत्काल कार्यवाही कर हितग्राहियों को आर्थिक सहायता राशि वितरण करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने सर्व एसडीएम को आरबीसी 6(4) प्राप्त हितग्राहियो के घर जाकर जानकारी लेने कहा एवं सभी राजस्व अधिकारी संवेदनशीलता दिखाते हुए आरबीसी 6(4) के प्रकरणों का समय सीमा के भीतर त्वरित निराकरण करें।

ज्ञात हो कि राजस्व पुस्तक परिपत्र के खण्ड 6 क्रमांक 4 के अनुसार प्राकृतिक आपदा से हुई फसल क्षति, मकान क्षति, जनहानि, पशुहानि एवं अन्य क्षतियों के लिए आर्थिक अनदान सहायता राशि पीड़ित परिवारों को प्रदान की जाती है। प्राकृतिक आपदाओं या प्रकोपों के अंतर्गत अतिवृष्टि, ओला, पाला, तुसार, शीतलहर, टिड्डी, बाढ़, आंधी, तूफान, भूकंप, भू-स्खलन, बादल का फटना, मिट्टी या बर्फ का पहाड़ों से खिसकना, सुनामी, कीट प्रकोप, लू, अग्नि दुर्घटना आदि सम्मिलित हैं। समीक्षा बैठक में सर्व एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार उपस्थित थे। उन्होंने लोक सेवा केंद्र की जानकारी ली तथा जाति, निवास, आय प्रमाण पत्र संबंधित समस्यों का समय पर निराकरण करने कहा है तथा सभी राजस्व के अधिकारी को कार्यों का निपटारा कर ही ऑफिस छोड़ने कहा एवं कार्य में प्रगति लाने कार्यशैली में सुधार लाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने पंचायत राज अधिनियम के मामले की जानकारी ली तथा पंचायत से संबंधित प्रकरण को भी समय पर निराकरण करने कहा। कलेक्टर ने जिले में लगाए गए कृषक चैपाल शिविर में हो रहे समस्याओं की निराकरण किए जाने की जानकारी ली तथा संबंधित विभाग के सभी प्रकरण त्वरित निराकरण करने कहा है।