छत्तीसगढ़ स्लाइडर

बलरामपुर: संभागायुक्त एवं पुलिस महानिरीक्षक ने सीमावर्ती चेकपोस्ट का किया निरीक्षण… बैरियर में कार्यरत स्वास्थ्यकर्मियों तथा सुरक्षाकर्मियों से बात कर किया उत्साहवर्धन..

बलरामपुर: कोरोना संक्रमण के प्रभावी रोकथाम के लिए जरूरी है सीमावर्ती क्षेत्रों की कड़ी निगरानी की जाए। संभागायुक्त सुश्री जिनेविवा किंडो तथा पुलिस महानिरीक्षक आर.पी. साय ने उत्तरप्रदेश से लगने वाले धनवार तथा झारखंड से लगने वाले कन्हर चेकपोस्ट का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने उत्तरप्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों का भी भ्रमण किया और वहां कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर किए जा रहे कार्यों की भी जानकारी ली।

धनवार चेकपोस्ट पहुंचने पर संभाग आयुक्त  जिनेविवा किंडो ने बैरियर में कार्यरत स्वास्थ्यकर्मियों तथा सुरक्षाकर्मियों से बात की और उनका उत्साहवर्धन किया। उन्होंने स्वास्थ्य कर्मियों से चर्चा के दौरान बताया कि वे आने-जाने वालों वाहनों की जांच करें, तत्पश्चात ही प्रवेश दें। सुरक्षाकर्मी व स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने उन्हें बताया कि आने-जाने वाले प्रत्येक वाहन की जांच की जाती है तथा कोरोना जांच उपरांत ही उनको प्रवेश दिया जाता है।

प्रवेश से पहले यह सुनिश्चित किया जाता है सभी व्यक्ति कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें। इसके पश्चात संभाग आयुक्त व पुलिस महानिरीक्षक आर.पी. साय झारखंड से लगने वाले कन्हर चेकपोस्ट पहुंचे। जहां उन्होंने नियम अनुरूप वाहनों आवाजाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने रामानुजगंज के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को निर्देशित करते हुए कहा कि सीमावर्ती क्षेत्रों की विशेष निगरानी की जाए। कोविड-19 के उचित प्रबंधन तथा संक्रमण के मामलों को कम करने में यह कदम महत्वपूर्ण व प्रभावी हो सकता है, इसलिए सीमावर्ती क्षेत्रों की व्यवस्था दुरुस्त होनी चाहिए।

इसके पश्चात संभागायुक्त व पुलिस महानिरीक्षक ने जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी तथा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक से कोविड-19 की रोकथाम तथा मरीजों के उपचार के लिए की गई व्यवस्थाओं के संबंध में जानकारी ली। संभाग आयुक्त सुश्री किंडो ने वर्तमान में जिले में संक्रमित मरीजों, होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों तथा कोविड अस्पतालों में उपचाररत मरीजों की संख्यात्मक जानकारी ली।

उन्होंने कहा कि बेहतर होगा कि लक्षण वाले मरीजों को तत्काल चिन्हित कर उन्हें आइसोलेट किया जाए तथा उनके शीघ्र पहचान से ही उन्हें संक्रमण के वाहक बनने से रोका जा सकता है। संभाग आयुक्त सुश्री किंडो ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि मैदानी अमले के स्वास्थ्य कर्मचारी प्रथम पंक्ति के योद्धा के रूप में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं, इसलिए उन्हें सभी सुविधाएं दी जाए तथा आवश्यकतानुसार उनकी जरूरतों को भी पूरा किया जाए। उन्होंने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के जिला कार्यक्रम प्रबंधक से कोविड-19 के टीकाकरण की प्रगति के बारे में भी जानकारी ली तथा अधिक से अधिक लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक करने तथा इससे जुड़े भ्रांतियों को दूर करने के लिए प्रभावी कदम उठाने के निर्देश दिए।

निरीक्षण के दौरान पुलिस अधीक्षक रामकृष्ण साहू, अपर कलेक्टर श्री एस.एस. पैकरा, अनुविभागीय अधिकारी राजस्व वाड्रफनगर  विशाल सिंह राणा, रामानुजगंज  विवेक चन्द्रा सहित अन्य अधिकारी/कर्मचारी उपस्थित थे।