ट्रेंडिंग देश -विदेश

LOCKDOWN ने बढ़ाया तनाव… कट्टरपंथ और आतंकवाद को और बल मिला- विदेश मंत्री एस जयशंकर

यूएनएससी ओपन डिबेट में भारत के केंद्रीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने आज कहा कि कोरोना महामारी के दौरान लॉकडाउन और उससे जुड़े तनाव, आर्थिक अनिश्चितता के कारण अलगाव और विस्तारित विघटन ने दुनिया को कट्टरपंथी कथाओं और अतिवादी प्रचार के प्रति अतिसंवेदनशील बना दिया है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एस जयशंकर ने कहा कि हाल के वर्षों में, आतंकवादी समूहों और लोन-वुल्फ हमलावरों ने ड्रोन, आभासी मुद्राओं और एन्क्रिप्टेड संचार सहित उभरती प्रौद्योगिकियों तक पहुंच हासिल कर अपनी क्षमताओं को बढ़ाया है।

सोशल मीडिया नेटवर्क ने युवाओं की कट्टरता और भर्ती में योगदान दिया है। कुछ राज्यों में आतंकवादी वित्तपोषण मामलों का पता लगाने, जांच करने और मुकदमा चलाने के लिए कानूनी / परिचालन ढांचे और तकनीकी विशेषज्ञता की कमी है। हालांकि, ऐसे अन्य राज्य हैं जो आतंकवाद का समर्थन करते हैं। उन्हें वित्तीय सहायता और सुरक्षित आवास प्रदान करते हैं। वे राज्य इन सब के लिए दोषी हैं।



जबकि हमें पहले की क्षमताओं को बढ़ाना चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को सामूहिक रूप से रोकना चाहिए और कॉल करना चाहिए और उन्हें जवाबदेह बनाना चाहिए। हमें आतंकबाद का मुकाबला करने के लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति का आह्वान करना चाहिए। इसके खिलाफ लड़ाई में कोई अगर मगर नहीं होनी चाहिए।

सभी सदस्यों को आतंकवाद रोधी साधनों में निहित दायित्वों को पूरा करना चाहिए। हमें इस लड़ाई में दोयम दर्जे का नहीं होनी चाहिए। आतंकवादी केवल आतंकवादी हैं। अच्छा और बुरे कोई भी नही है। जो लोग इस भेद का प्रचार करते हैं, उनका एक एजेंडा होता है और जो लोग उनके लिए कवर करते हैं, वे केवल अपराधी हैं। आतंकवाद और अंतरराष्ट्रीय संगठित अपराध के बीच संबंधों को पूरी तरह से मान्यता प्राप्त और सख्ती से संबोधित किया जाना चाहिए।