छत्तीसगढ़ सियासत स्लाइडर

छत्तीसगढ़: प्राथमिक शालाओं में होगी 15 भाषाओं में पढ़ाई…ब्लेक बोर्ड से की-बोर्ड योजना…कांग्रेसजनों से मिले स्कूली शिक्षामंत्री…

रायपुर। शिक्षा मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने गुरुवार को कांग्रेसजनों से मिलने और विभागीय समस्याओं का निराकरण करने राजीव भवन पहुंचे। जनता से मिलने और विभागीय समस्याओं की जानकारी लेने के बाद मंत्री प्रेमसाय सिंह टेकाम ने संवाददाताओं से चर्चा करते हुये कहा कि स्कूलों में फीस स्ट्रक्चर ज्यादा है, इसके लिए फीस नियामक कमेटी बनाई जा रही है।

कमेटी की रिपोर्ट मिलने के बाद आयोग गठन की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा। स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम ने कहा है कि निजी स्कूलों में मनमानी फीस वृद्धि की शिकायतें लगातार मिल रही हैं।



इसको देखते हुए निजी स्कूलों में फीस नियंत्रण के लिए आयोग का गठन होगा। अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में भी किताब वितरण छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा किया जा रहा है। शिक्षकों के भर्ती मामले में कहा कि अभी जो हम शिक्षकों के भर्ती कर रहे है, उसमें ज्यादातर अंग्रेजी और गणित के है, जहां-जहां शिक्षकों की कमी है उसे पूरा किया जाएगा।

प्रायमरी स्कूल स्तर पर प्रायमरी भाषा के रूप गोंडी, छत्तीसगढ़ी ये भाषाएं को शामिल करने का विचार चल रहा है। प्राथमिक शालाओं में अब राज्य की 15 भाषाओं को पढ़ाया जाएगा।


WP-GROUP

राज्य में शिक्षा गुणवत्ता को लेकर आगे बढ़ रहे हैं, ब्लेक बोर्ड से की-बोर्ड योजना की ओर पहुंच चुके हैं तथा 1246 स्कूलों में निकट भविष्य में कम्प्यूटर लैब के माध्यम से बच्चों को शिक्षा देंगे। सहकारिता के क्षेत्र में जहां भी गड़बड़ी की शिकायत आएगी जांच की जाएगी।

कार्रवाई भी होगी। अभी तो पूर्व मुख्यमंत्री के जिले में गड़बडिय़ां मिली है उसमे कार्रवाई की गई है। भविष्य में जहां भी गड़बड़ी मिलेगी या शिकायत होगी उस पर कार्रवाई होगी। पत्रकार सुरक्षा कानून पर कहा कि छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार इस योजना को लागू करेगी और पत्रकारों को सुरक्षा भी प्रदान करेंगी। सरकार पत्रकारों के साथ है।

यह भी देखें : 

हादसा: चारपहिया की चपेट में आई बाइक…दो युवकों की मौत