ICC T20 World Cup 2024: ICC का बड़ा फैसला, बदल दिया टी-20 वर्ल्ड कप का फॉर्मेट, अब इतनी टीमें होंगी शामिल » द खबरीलाल                  
खेलकूद ट्रेंडिंग

ICC T20 World Cup 2024: ICC का बड़ा फैसला, बदल दिया टी-20 वर्ल्ड कप का फॉर्मेट, अब इतनी टीमें होंगी शामिल

टी20 वर्ल्ड कप 2022 की समाप्ति में अभी कुछ ही दिन बीते होंगे, लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट परिषद (ICC) अभी से अगले टी20 वर्ल्ड कप की तैयारियों में जुट गई है. आईसीसी ने साल 2024 में होने वाले टी20 वर्ल्ड कप के लिए फॉर्मेट में बड़े बदलाव किए हैं. 2024 का टी20 वर्ल्ड कप वेस्टइंडीज और संयुक्त राज्य अमेरिका (USA) की मेजबानी में खेला जाना है और इसमें 20 टीमें भाग लेने वाली हैं.

ऐसा रहेगा अगले वर्ल्ड कप का फॉर्मेट
20 टीमों वाला टूर्नामेंट कुल नॉकआउट समेत कुल तीन स्टेज में खेला जाएगा. सभी टीमों 20 टीमों को 4-4 के कुल 5 ग्रुप में बांटा जाएगा. हर ग्रुप की टॉप 2 टीमें सुपर-8 में प्रवेश करेगी. इसके बाद फिर सभी आठ टीमों को 4-4 के 2 ग्रुप में बांटा जाएगा. सुपर-8 स्टेज में दोनों ग्रुप की दो-दो शीर्ष टीमें सेमीफाइनल में एंट्री करेंगी. दो सेमीफाइनल मुकाबले के जरिए दो टीमें फाइनल में जगह बनाएंगी.

यानी कि अगला टी20 वर्ल्ड कप हालिया टी20 वर्ल्ड कप की तुलना में काफी अलग होगा और उसमें क्वालिफाइंग राउंड नहीं खेले जाएंगे और ना ही सुपर-12 स्टेज होगा. हालिया टी20 वर्ल्ड कप में कुल 16 टीमों ने भाग लिया था, जिसमें 8 टीमों को सीधे सुपर-12 स्टेज के लिए एंट्री मिली थी. वहीं, 4 चार टीमों ने क्वालिफाइंग राउंड के जरिए सुपर-12 में जगह बनाई थी.

वेस्टइंडीज और संयुक्त राज्य अमेरिका ने मेजबान होने के नाते आगामी टी20 विश्व कप के लिए सीधे क्वालिफाई कर लिया. वहीं, टी20 विश्व कप से सुपर-12 स्टेज की शीर्ष 8 टीमों को आगामी सीजन के लिए डायरेक्ट एंट्री मिली है. इन टीमों में न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका, भारत, पाकिस्तान, साउथ अफ्रीका और नीदरलैंड शामिल है. इसके साथ ही आईसीसी रैंकिंग (14 नवंबर) के आधार पर अफगानिस्तान और बांग्लादेश को भी इस टी20 विश्व कप के लिए सीधे प्रवेश मिला है.

आठ स्लॉट अब भी बाकी
यानी कि 20 में से 12 टीमों का फैसला हो चुका है और आठ स्पॉट बचे हैं. टी20 वर्ल्ड कप 2024 के लिए बाकी की 8 टीमों का फैसला रीजनल क्वालिफिकेशन के आधार पर होगा. इस क्वालिफिकेशन में अफ्रीका, एशिया और यूरोप के पास दो -दो क्वालिफिकेशन स्पॉट है, जबकि अमेरिका और पूर्वी एशिया प्रशांत के पास 1- 1 स्लॉट बचे हैं. जिम्बाब्वे, नामीबिया, स्कॉटलैंड, आयरलैंड जैसी टीमों के पास रीजनल क्वालिफिकेशन के जरिए जगह बनाने का सुनहरा मौका होगा.