क्राइम वायरल

एक्ट्रेस ने वजन घटाने के लिए कराई प्लास्टिक सर्जरी, हुई मौत… जानिए इस सर्जरी में क्या रिस्क…

बेंगलुरू. कन्नड़ टीवी इंडस्ट्री की उभरती हुई एक्ट्रेस चेतना राज का 21 साल की उम्र में निधन हो गया. चेतना ने वजन घटाने की सर्जरी कराई थी, जिसके बाद उनकी तबीयत खराब हो गई. उनके फेफड़ों में पानी भरने लगा और कुछ ही घंटे के अंदर उन्होंने दम तोड़ दिया. चेतना के पैरेंट्स की शिकायत पर पुलिस ने अस्पताल के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. इतनी कम उम्र में, सिर्फ वजन कम करने के चक्कर में एक्ट्रेस की मौत से उनके करीबी जहां सदमे में हैं, वहीं एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री हैरत में है.

पिता का अस्पताल पर लापरवाही का आरोप
चेतना कन्नड़ सीरियल की दुनिया में एक जाना-माना नाम थीं. उन्होंने गीता और दोरेसानी जैसे सीरियलों में काम किया था. चेतना सोमवार की सुबह राजाजी नगर के डॉ. शेट्टी कॉस्मेटिक सेंटर में सर्जरी के लिए भर्ती हुई थीं. शाम करीब 6 बजे उनकी तबीयत बिगड़ने लगी. अस्पताल ने उनके पैरेंट्स को बुलाया, जो चेतना को आईसीयू की सुविधा वाले दूसरे अस्पताल में ले गए. शाम करीब 7 बजे वहां के डॉक्टरों ने बताया कि उनकी सांसें पहले ही थम चुकी हैं.

पुलिस ने दर्ज किया लापरवाही का केस
चेतना के पिता वरदराजू एक बिजमेसमैन हैं. उनकी शिकायत पर पुलिस ने अस्पताल के खिलाफ अप्राकृतिक मौत का केस दर्ज कर लिया है. डीसीपी नॉर्थ विनायक पाटिल ने TOI को बताया कि पीड़िता के पिता ने अस्पताल पर मेडिकल लापरवाही का आरोप लगाया है. इसके आधार पर हमने सीआरपीसी की धारा 174 के तहत केस दर्ज किया है. पोस्टमॉर्टम और अन्य मेडिकल रिपोर्ट्स के आधार पर आगे कार्रवाई की जाएगी.

खुद ही पैसों का इंतजाम किया था
TOI के मुताबिक, चेतना की दादी नारायणम्मा ने बताया कि चेतना के ग्रैजुएशन पूरा करने के बाद परिवार वाले चाहते थे कि वो शादी कर ले. लेकिन वह तैयार नहीं हुई. वह कन्नड़ फिल्मों में काम करना चाहती थी. उसने वजन घटाने की सर्जरी के लिए डेढ़ लाख रुपये मांगे थे. हम नहीं चाहते थे कि वो ये सर्जरी कराए क्योंकि वो मोटी नहीं थी, स्वस्थ थी. इस पर चेतना ने कहा कि वो अपने दोस्तों की मदद से खुद ही सर्जरी करवा लेगी.

स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल से मांगी रिपोर्ट
पिता वरदराजू ने बताया कि चेतना करीब चार महीने पहले राज राजेश्वरी नगर में पीजी पर रहने चली गई थी. उसने सर्जरी के लिए खुद ही पैसों का इंतजाम किया और अस्पताल को 92 हजार रुपये दिए. अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए वरदराजू ने कहा कि सर्जरी करने से पहले अस्पताल ने पैरेंट्स की इजाजत नहीं ली थी. सर्जरी के दौरान लापरवाही बरती, जिससे चेतना की जान चली गई. उधर, अस्पताल ने इस बारे में बात करने से इनकार कर दिया. इस पूरे मामले पर स्वास्थ्य विभाग ने अस्पताल से विस्तृत रिपोर्ट देने के लिए कहा है.

वजन घटाने की सर्जरी में कितना खतरा?
वजन घटाने के लिए लिपोसक्शन (Liposuction) सर्जरी की जाती है. इसके जरिए शरीर में ऐसी जगहों पर जमा हो चुके अतिरिक्त वसा को हटाया जाता है, जो एक्सरसाइज और डाइटिंग से भी खत्म नहीं होता. 18 से 65 साल के उम्र के लोगों पर इसे किया जा सकता है. हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत में गुरुग्राम के फोर्टिस अस्पताल के सीनियर प्लास्टिक सर्जन डॉ. अधीश्वर शर्मा बताते हैं कि लोग थोड़ा सा भी फैट जमा होने पर खुद को एकदम फिट दिखाने के लिए लिपोसक्शन सर्जरी करवा लेते हैं. कुछ लोग इसे मोटापे का इलाज बताते हैं. ये बिल्कुल गलत है. लिपोसक्शन एक जटिल सर्जरी है. इसमें कई रिस्क हैं. बड़े बड़े डॉक्टरों की निगरानी में भी तबीयत खराब हो सकती है. उन्होंने कहा कि मोटापा दूर करने का सबसे सही इलाज डाइटिंग, एक्सरसाइज और संतुलित भोजन ही है.

मुंबई के वॉकहार्ट अस्पताल की प्लास्टिक सर्जन डॉ. श्रद्धा देशपांडे बताती हैं कि लिपोसक्शन सर्जरी से कई तरह की जटिलताएं पैदा हो सकती हैं. शरीर में सूजन और चोट जैसे निशान बन सकते हैं. ज्यादा जटिल होने पर शरीर में द्रव ओवरलोड हो सकता है, फेफड़ों में समस्या आ सती है. उन्होंने कहा कि शरीर के वजन का 10 फीसदी से ज्यादा फैट हटाना हो तो ये सर्जरी कराने से बचना चाहिए क्योंकि जटिलताएं पैदा होने की आशंका ज्यादा रहती है.