छत्तीसगढ़ स्लाइडर

ऑक्सी रीडिंग जोन के टॉवर में गर्मी रोकेगी कांच की दीवार और थर्मल इन्सुलेशन वाली छत

रायपुर। राजधानी रायपुर के एनआईटी और सेन्ट्रल लाइब्रेरी के बीच बनाए जा रहे ऑक्सी रीडिंग जोन के रीडिंग टॉवर की दीवालों में हीट रजिस्टेंस ग्लास लगाए जा रहे है जिससे सूर्य का प्रकाश अंदर तो आ सकेगा परंतु उसकी गर्मी नही। इसी तरह दो मंजिला इस रीडिंग टॉवर में थर्मल इन्सुलेशन युक्त छत का निर्माण किया जा रहा है जिससे उपर से भी गर्मी इसके अंदर नही जा सकेगी। यह राजधानी रायपुर की पहली ग्रीन बिल्डिंग होगी। इससे यहां युवाओं को पढऩे के लिए वातानुकूलित माहौल मिल सकेगा। कलेक्टर श्री ओ.पी.चौधरी और नगर निगम के आयुक्त श्री रजत बंसल ने आज यहां ऑक्सी रीडिंग जोन पहुंचकर निर्माण कार्यो का जायजा लिया और अंतिम चरण के कार्यो को जायजा और संबंधित निर्माण एजेन्सी को कार्य शीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।


गौरतलब है कि रायपुर शहर सहित प्रदेश के स्थानीय युवाओं को सिविल सेवा सहित राष्ट्रीय स्तर की विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए आवश्यक सुविधाओं सहित प्रतियोगी वातावरण मुहैया कराने ऑक्सी रीडिंग जोन का निर्माण किया जा रहा है। जिला खनिज न्यास निधि से एनआईटी और सेन्ट्रल लाइब्रेरी के बीच करीब 14 करोड़ की लागत से 6 एकड़ क्षेत्र मेें इस ”ऑक्सी रीडिंग जोन” का निर्माण किया जा रहा है। इस ऑक्सी रीडिंग जोन में जी प्लस टू रीडिंग टॉवर बनाया गया है। जिसे इस तरह डिजाइन किया गया है कि उसमें सूर्य की रोशनी तो अंदर आ सकेगी परंतु गर्मी नही । इस रीडिंग टॉवर की लाइब्रेरी के लिए डेढ़ करोड़ रूपए की लागत की 50 हजार से अधिक किताब उपलब्ध रहेंगी। इसमें सभी प्रकार की प्रतियोगी परीक्षाओं की पुस्तकें सहित मेडिकल, इंजीनियरिंग, मैनेजमेंट आईटी, विधि, पत्रकारिता, साहित्य, रिसर्च, कॉमर्स, कला आदि सभी क्षेत्रों की पुस्तकें होंगी। यह चौबीस घण्टे संचालित होगा। यहां ई लाइब्रेरी, वाईफाई जोन, मल्टीमीडिया क्लास रूम बनाए जा रहे है। रीडिंग टॉवर के बाहर चारों तरफ जैव विविधता युक्त गार्डन बनाया गया है। इस गार्डन में पीपल, कदम, अमलतास, कचनार, नीम सहित विभिन्न प्रजातियों के पौधे लगाए गए है। गार्डन और पेड़ के लिए नीचे 18 गजिबो, परगोलास और कैनोपी भी बनाए जा रहे। इन्हें इन्टेरेक्टिव जोन में रूप में विकसित किया जा रहा है। जहां बैठकर युवा अध्ययन और आपस में डिश्कशन कर सकेंगे। पूरे कैम्पस में सुरक्षा के लिए सीसीटीव्ही कैमरे और पीएस सिस्टम लगाया जा रहा है। ऑक्सी रीडिंग जोन में मेम्बरों को आरएफ आईडी कार्ड दिया जाएगा। जिसकी सहायता से वो यहां प्रवेश कर सकेंगे।


इसके अलावा ऑक्सी रीडिंग जोन में एक फेसेलिटी प्लाजा भी बनाया जा रहा है, जिसमें बुक स्टॉल, स्टेशनरी, मेडिकल स्टोर, स्पोर्टस् गुड्स, इलेक्ट्रॉनिक्स, रेस्टारेंट, बैंक और एटीएम की सुविधा भी युवाओं को मिलेगी। गार्डन में सुन्दर वॉटर बाडी का निर्माण भी किया जा रहा है। यह ऑक्सी रीडिंग जोन देश का सबसे बड़ा ऑक्सी रीडिंग जोन होगा जहां युवा छात्र-छात्राओं को सिविल सेवा सहित विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए सर्वसुविधायुक्त वातावरण मुहैया होगा।

यह भी देखें – रायपुर को बेस्ट सिटी एवार्ड