छत्तीसगढ़ स्लाइडर

राजनांदगाव: कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा एवं SP श्रवण ने मां बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ में क्वार नवरात्रि मेला आयोजन के संबंध में ली बैठक… COVID-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए मेला आयोजित नहीं करने का सर्वसम्मति से लिया गया निर्णय…

राजनांदगांव , उषा किरण: कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा एवं पुलिस अधीक्षक श्री डी श्रवण ने मां बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ में क्वार नवरात्रि मेला आयोजन के संबंध में आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में बैठक ली। कलेक्टर श्री टोपेश्वर वर्मा ने कहा कि कोविड-19 के पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ी है। जिसकी वजह से जिले में लोगों की मृत्यु भी हुई है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण स्वास्थ्य से जुड़ा हुआ महत्वपूर्ण मामला है और अब सामुदायिक संक्रमण की स्थिति में स्रोत भी पता नहीं चल पा रहा है ऐसी स्थिति में सभी को कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करना बहुत जरूरी है।

जिले में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए यह जरूरी है कि भीड़ की अनुमति किसी भी हालत में नहीं होनी चाहिए। डोंगरगढ़ शहर में कोविड-19 पॉजिटिव संख्या भी बढ़ी है। बैठक में सभी ने सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया कि मां बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ में क्वार नवरात्रि का मेला आयोजित नहीं होगा और परंपरागत रूप से माता की पूजा-अर्चना की जाएगी। मां बम्लेश्वरी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री नारायण लाल अग्रवाल एवं सदस्यों ने कोविड-19 के कठिन समय में हरसंभव सहयोग करने की बात कही।

कलेक्टर श्री वर्मा ने कहा कि डोंगरगढ़ शहर कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया है। इसलिए यहां पंडाल नहीं लगाए जाएंगे और पदयात्रियों को भी स्वीकृति नहीं मिलेगी। उन्होंने कहा कि धार्मिक स्थलों में चारो तरफ से लोग आते हैं। इसलिए पहले से ही नवरात्रि मेला निरस्त होने की सूचना रेल्वे एवं आसपास के जिलों को पत्र के माध्यम से सूचना दी जाएगी। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में भी मुनादी के माध्यम से मेला नहीं होने के संबंध में सूचना देने के निर्देश दिए। पुलिस अधीक्षक श्री डी श्रवण ने कहा कि मां बम्लेश्वरी मंदिर डोंगरगढ़ में क्वार नवरात्रि का मेला जिले का सबसे बड़ा आयोजन है और लोगों की आस्था से जुड़ा हुआ है।

कोरोना संकट के इस कठिन समय में सभी को मिलकर इसका सामना करना है। बेहतर स्वास्थ्य जीवन में सबसे ज्यादा जरूरी है इसलिए भीड़ से बचाव ही खुद का बचाव है। सभी को कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करना है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि जिले में कोरोना संक्रमण बढ़ा है और स्थिति बहुत अच्छी नहीं है।

डोंगरगढ़ शहर भी कंटेनमेंट जोन है। बाहर से आने वाले संक्रमित लोग दूसरों को भी संक्रमित कर सकते हैं। जिनकी रोगप्रतिरोधक क्षमता कम होगी, उनका जीवन खतरे में आ जाएगा। ऐसे में दुकान और लोगों का आवागमन बंद करने का निर्णय ही अच्छा रहेगा। एसडीएम डोंगरगढ़ श्री अविनाश भोई ने कहा कि कोविड-19 के इस कठिन दौर में आम जनता का प्रवेश प्रतिबंधित करना ही उचित रहेगा और पुजारी को ही पूजा करने की अनुमति देना उचित है। मां बम्लेश्वरी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्री नारायण लाल अग्रवाल ने बताया कि अभी मंदिर में लाइव दर्शन चल रहा है और आरती भी हो रही है।

ट्रस्ट द्वारा कोविड-19 से बचाव के लिए एहतियात बरत रहे हैं। उन्होंने कहा कि इस संक्रमण से लड़ाई में सभी शासन-प्रशासन के साथ है। उन्होंने डोंगरगढ़ में कोविड केयर सेंटर की भी प्रशंसा की। अपर कलेक्टर श्री सीएल मारकण्डेय ने कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए नवरात्रि मेला के आयोजन नहीं होने के निर्णय पर सभी की सहमति एवं सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर वनमंडलाधिकारी राजनांदगांव श्री बीपी सिंह, जिला पंचायत सीईओ श्रीमती तनुजा सलाम, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री जयप्रकाश बड़ई, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी, राजनांदगांव एसडीएम श्री मुकेश रावटे, खैरागढ़ एसडीएम श्रीमती निष्ठा पाण्डेय सहित मां बम्लेश्वरी मंदिर ट्रस्ट के उपाध्यक्ष श्री रघुवर प्रसाद अग्रवाल, सदस्य श्री नवनीत तिवारी, श्री संजय अग्रवाल, श्री सुभाष अग्रवाल उपस्थित थे।

विज्ञापन

loading…

हमसे जुड़ें

Do Subscribe

JOIN us on Facebook