छत्तीसगढ़ सियासत स्लाइडर

मुख्यमंत्री ने खुद किया धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण…प्रथम दिन पहुंचे औंधी, जामगांव (एम), तर्रा, फुंडा…परखी धान की गुणवत्ता

रायपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल किसानों से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के कल प्रथम दिन दुर्ग जिले के पाटन विकासखंड की सहकारी समिति औंधी, जामगांव (एम), तर्रा और फुंडा पहुंचे। उन्होंने धान खरीदी के पहले दिन धान खरीदी केन्द्रों का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री जब औंधी के धान खरीदी केंद्र पहुंचे तो वहां स्थानीय किसान श्रोणित चंद्राकर का धान बिक रहा था। मुख्यमंत्री ने किसानों और हमालों से मिलकर उनका हालचाल पूछा।

सीएम श्री बघेल ने किसानों से कहा किसानों के लिए खरीदी केंद्रों में जरूरी सुविधाएं देखने आया हूं। सरकार किसानों की सभी सुविधाओं का ध्यान रखेगी। किसानों ने खुशनुमा माहौल में कहा, मुख्यमंत्री जी हमारी खरीदी की व्यवस्था देखने आए हैं, यह देखकर बहुत अच्छा लग रहा है। मुख्यमंत्री ने जामगांव (एम) में किसान तोखनलाल वर्मा का धान खुद तौला। बघेल ने धान को रगड़कर उसकी गुणवत्ता को परखा और कहा गुणवत्ता अच्छी है।



मुख्यमंत्री ने ग्राम तर्रा और फुंडा में धान खरीदी केन्द्र निरीक्षण के दौरान किसानों से कहा कि अभी किसानों से 1815 और 1825 रूपए में धान खरीदा जा रहा है। बजट में प्रावधान कर योजना बनाकर शेष राशि किसानों को हस्तांतरित की जाएगी। सरकार किसानों के हितों का पूरा ध्यान रखेगी। उन्होंने इस अवसर पर हमालों से मुलाकात की और ग्रुप फोटो भी खिंचवायी। मुख्यमंत्री ने उपस्थित अधिकारियों-कर्मचारियों को धान खरीदी के लिए सभी जरूरी इंतजाम करने के निर्देश दिए है।

उन्होंने कहा है कि किसानों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो और खरीदी केन्द्रों में पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध कराया जाएं। मौके पर उपस्थित कलेक्टर अंकित आनंद ने मुख्यमंत्री को व्यवस्था की जानकारी देते हुये बताया कि टोकन दिए जा चुके हैं। धान खरीदी की व्यवस्था की लगातार मॉनिटरिंग हो रही है।


WP-GROUP

उल्लेखनीय है कि राज्य के सभी जिलों में धान का उपार्जन छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी विपणन संघ (मार्कफेड) द्वारा किया जा रहा है। धान की खरीदी वर्ष 2018-19 में संचालित एक हजार 995 खरीदी केन्द्रों सहित इस वर्ष 2019-20 में प्रारंभ किए गए 33 नवीन केन्द्रों में खरीदी की जाएगी। प्रदेश में 48 मंडियों एवं 76 उप-मंडियों के प्रांगण का उपयोग विगत खरीफ विपणन वर्ष के अनुसार धान उपार्जन केन्द्र के लिए किया जाएगा।

वर्तमान खरीफ वर्ष 2019-20 में प्रदेश के 19 लाख 56 हजार किसानों ने पंजीयन करा लिया है, जो गत वर्ष पंजीकृत किसानों की संख्या 16 लाख 97 हजार से दो लाख 58 हजार ज्यादा है। राज्य शासन द्वारा खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 के दौरान राज्य के किसानों से नगद व लिंकिंग में धान की खरीदी एक दिसम्बर से 15 फरवरी 2020 तक की जाएगी। खरीफ वर्ष 2019-20 में प्रदेश के किसानों से धान खरीदी की अधिकतम सीमा 15 क्विंटल प्रति एकड़ लिंकिंग निर्धारित की गई है। खरीफ वर्ष 2019-20 में राज्य के किसानों से 85 लाख मैट्रिक टन धान उपार्जन अनुमानित है।मुख्यमंत्री ने जामगांव-एम में गौठान की व्यवस्था के बारे में किसानों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि बहुत से किसान पैरा दान कर रहे हैं यह बहुत अच्छी बात है। किसानों के सहयोग से गौठान का काम बहुत बेहतर होगा।

यह भी देखें : 

सावधान रहें…! छत्तीसगढ़ के इस शहर में ‘पत्थर गिरोह’ की दहशत… 8 से अधिक चोरी की घटना को देख चुके हैं अंजाम…

Add Comment

Click here to post a comment

Do Subscribe!!!

हमसे जुड़ें