छत्तीसगढ़ स्लाइडर

रायपुर: ब्राह्मण पारा और विवेकानंद वार्ड के नाम विलोपन पर बृजमोहन ने जताई आपत्ति…कलेक्टर-निगम आयुक्त को लिखा पत्र…

रायपुर। प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं रायपुर दक्षिण विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने नगर पालिका निगम रायपुर की परिसीमन में विभिन्न वार्डों के नाम विलोपित करने व सीमा क्षेत्र को लेकर अपनी आपत्ति दर्ज की है।

उन्होंने कहा कि आज के समय में परिसीमन आवश्यक है परंतु ऐतिहासिक वार्डों का नाम विलोपित किया जाना उचित नहीं है।

कलेक्टर व निगम कमिश्नर को लिखे पत्र में बृजमोहन अग्रवाल ने कहा की नगर पालिक निगम रायपुर के वार्डों के नए परिसीमन में ऐतिहासिक एवं महत्वपूर्ण वार्डों के नाम को विलोपित कर दिया गया है।

कुछ वार्डों के क्षेत्र को काटकर दूसरे वार्डो में जोड़ दिए जाने से आम जनों में बेहद नाराजगी है। उन्होंने कहा कि वार्डों के नाम का विलोपन जन भावना के खिलाफ है।

उन्होंने आपत्ती में कहा कि रायपुर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र के 2 वार्ड कंकाली पारा एवं ब्राह्मण पारा को मिलाकर जनसंख्या के हिसाब से एक वार्ड बनाया जा रहा है। किंतु सबसे पुराने ऐतिहासिक ब्राह्मण पारा वार्ड का नाम विलोपित किया गया है जो सर्वथा अनुचित है।

संपूर्ण अंचल में स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व ब्राह्मण पारा ने ही किया था। यहां स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन की बैठक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, विनोबा भावे, लाला लाजपत राय,नेताजी सुभाष चंद्र बोस, लालमणि तिवारी, सरजू प्रसाद दुबे सहित अनेको स्वतंत्रता संग्राम के राष्ट्रीय नेताओं द्वारा ली गई थी।

इस वार्ड ने करीब 50 स्वतंत्रता संग्राम सेनानी दिए हैं। जिसमें कमल नारायण शर्मा, मोतीलाल त्रिपाठी, पंकज लाल तिवारी, महादेव प्रसाद पांडे, ठाकुर प्यारेलाल सिंह, हरि ठाकुर, रामदयाल तिवारी, दीनदयाल मिश्रा, रामानंद दुबे, केयूर भूषण, विद्यानंद दुबे, चमेली दुबे, सरस्वती दुबे सहित अनेकों सेनानियों ने इस ऐतिहासिक वार्ड से स्वतंत्रता आंदोलन चलाकर देश को अंग्रेजी दासता से मुक्त करने के लिए संघर्ष किया था।

इस वार्ड का नाम ऐतिहासिक शिलालेखों में भी दर्ज है। नगर निगम गठन से आज तक ब्राम्हण पारा वार्ड नामांकित है। इसलिए इस वार्ड का नाम विलोपित करना इतिहास को विस्मृत करना है। उन्होंने वार्ड का नाम ब्राह्मण पारा-कंकाली मंदिर वार्ड रखने का सुझाव दिया।





WP-GROUP

बृजमोहन ने स्वामी विवेकानंद वार्ड की बात भी रखी। उन्होंने कहा कि बूढ़ापारा वार्ड का नाम प्रख्यात समाज सुधारक युग प्रवर्तक एवं युवाओं के प्रेरणा स्रोत स्वामी विवेकानंद के नाम पर रखा गया था।

इसके पीछे यह वजह है कि स्वामी विवेकानंद का बचपन यहीं पर गुजरा था। कोलकाता के बाद उनका सर्वाधिक वक्त रायपुर के इस बूढ़ापारा में बीता।

आज सदर बाजार वार्ड और विवेकानंद वार्ड को जोड़कर एक वार्ड बनाया जा रहा है परंतु वार्ड का नाम विलोपित किया जाना अनुचित है। इस स्थान से स्वामी विवेकानंद जी की यादें जुड़ी हुई है।

इसलिए इस वार्ड का नाम स्वामी विवेकानंद जी के नाम पर रखा जाना उपयुक्त होगा।इसी प्रकार उन्होंने रामसागर पारा वार्ड नाम विलोपित की जाने पर भी आपत्ति जताई और कहा कि इस वार्ड की ऐतिहासिक पृष्ठभूमि है इस कारण से इसका भी नाम विलोपित किया जाना अनुचित है।बृजमोहन ने वार्डो के परिसीमन में भी हुए गंभीर त्रुटियों को सुधार करने की बात अपने पत्र में कहीं हैं।

यह भी देखें : 

 

विज्ञापन

हमसे जुड़ें

Do Subscribe!!!