क्राइम देश -विदेश यूथ व्यापार सियासत स्लाइडर

स्कूल ने बच्चों और अभिभावकों को फीस न देने पर बनाया बंधक… FIR दर्ज…

बरेली : उत्तर प्रदेश के बरेली में एक शिक्षण संस्थान की फीस जमा न होने पर बच्चों और अभिभावकों को बंधक बनाने, सांप्रदायिक माहौल बिगाडऩे और धमकी देने के मामले में हार्टमैन कालेज प्रबंधन और स्टाफ के खिलाफ पुलिस ने दो मामले दर्ज किये हैं।

बरेली के इज्जतनगर थाने में बीती देर रात दर्ज हुयी एफआईआर में संस्थान की कॉर्डिनेटर शालिनी जुनेजा, मैनेजर ज्वैल मैसी, प्रधानाचार्य अनिल कुल्लू व शिक्षक रोशन भी नामजद किए गये।

इस मामले में एक एफआईआर बरेली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) रोहित सिंह सजवाण और दूसरी एफआईआर आइजी रेंज रमित शर्मा के हस्तक्षेप से दर्ज की गयी है। एतिहात के तौर पर कालेज के बाहर पुलिस तैनात की गयी है।

आइजी रेंज रमित शर्मा ने बताया कि बच्चों और अभिभावकों को बंधक बनाने सांप्रदायिक माहौल बिगाडऩे और धमकी देने के मामले की शिकायत मिली थी। एसएसपी को कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि बच्चों के जीवन से खिलवाड़ करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।

इस मामले में इज्जतनगर थाने में आरोपितों के विरुद्ध एक और मुकदमा दर्ज कराया गया है। एक दिन पहले मुकदमे में सामने आए नामों को भी शामिल किया जाएगा। दोनों एफआईआर आईपीसी की धारा 342 और 506 दर्ज हुयी है। जाँच में कुछ और लोगों के नाम आ सकते हैं और धारायें भी बढ़ सकती है।

सजवाण ने कहा कि इस मामले में पुलिस संस्थान के सीसीटीवी फुटेज को कब्जे में लेगी। इज्जतनगर पुलिस के मुताबिक, पूरा घटनाक्रम सीसीटीवी कैमरे में कैद होने की बात सामने आई है। लिहाजा, जांच में जिन जिन आरोपियों के नाम सामने आयेंगे, उन्हें भी नामजद किया जायेगा।

स्कूल परिसर में उत्तेजक भाषण देने व सांप्रदायिक माहौल खराब करने की बातें सामने आने पर खुफिया एजेंसियां भी प्रकरण की जांच में जुट गई हैं। वह हर बिंदु की बारीकी से छानबीन कर रही हैं। शासन से पूरे मामले में रिपोर्ट तलब की गई है।

अभिभावक नरेंद्र राणा ने सजवाण को बताया कि उनके बच्चे हार्टमैन कॉलेज में पढ़ते हैं। गत 07 मई को छुट्टी के समय अभिभावक जब अपने बच्चों को स्कूल से लेने गए, तो उनके बच्चे ने रोते हुये बाहर बताया कि उसकी परीक्षा थी, शालिनी जुनेजा मैडम ने परीक्षा के दौरान उससे कॉपी छीन ली और छत पर बने स्टोर रूम में उसे बंद कर दिया।

इस स्टोर में 32 से 33 बच्चे पहले से बंद थे। बच्चों को 2 घंटे लगातार बंद रखा गया, जिससे उनकी तबियत बिगड़ गयी और बच्चे मानसिक रूप से सदमे में चले गये।

अभिभावकों के विरोध के बाद बच्चों को पेपर दिलवाया गया। अभिभावकों ने 112 डायल कर पुलिस को बुलाया। पुलिस के हस्तक्षेप से बच्चे और अभिभावक कालेज से बाहर निकाले गये।

कुछ अन्य अभिभावकों की इसी शिकायत पर आइजी रेंज के आदेश पर बीती देर रात दूसरा मुकदमा दर्ज हुआ है।

अभिभावकों ने पुलिस को बताया कि यह कार्रवाई समय से फीस भुगतान नहीं कर पाने वाले बच्चों के साथ की गयी। एसपी सिटी रविंद्र कुमार ने गुरुवार को बताया कि एहतियात के तौर पर कालेज के बाहर पुलिस तैनात की गयी है।