एमएस धोनी के फैसलों का कायल हुआ ये ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज... कहा- उसका दिमाग सबसे तेज... » द खबरीलाल                  
खेलकूद देश -विदेश स्लाइडर

एमएस धोनी के फैसलों का कायल हुआ ये ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज… कहा- उसका दिमाग सबसे तेज…

ऑस्ट्रेलिया के महान क्रिकेटर ग्रेग चैपल ने भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को सबसे तेज दिमाग वाले खिलाड़ियों में से एक माना है. उनका कहना है कि फैसले लेने की काबिलियत के चलते वे अपने साथी महान खिलाड़ियों से काफी अलग बन जाते हैं.

ग्रेग चैपल ने एमएस धोनी का उदाहरण देते हुए क्रिकेटर्स को तैयार करने में मदद करने वाले प्राकृतिक वातावरण की कमी की तरफ इशारा किया. उनका कहना था कि एक समय पर ऐसी चीजें क्रिकेट की मजबूत टीमों में खिलाड़ियों को तैयार करने में अहम भूमिका निभाया करती थी.

ग्रेग चैपल ने अपने लेख में कहा, ‘विकसित क्रिकेट वाले देशों ने प्राकृतिक वातावरण को छोड़ जिया है. पुराने समय में यह खिलाड़ियों को तैयार करने में बड़ी भूमिका निभाया करते थे. ऐसे माहौल में युवा क्रिकेटर अच्छे खिलाड़ियों को देखकर सीखते थे और परिवार व दोस्तों के साथ के मैचों में उन सबक को आजमाया करते थे.

भारतीय उपमहाद्वीप में अभी भी कई ऐसे कस्बे हैं जहां कोचिंग काफी दुर्लभ है और युवा गलियों व खाली जगहों पर खेलते हैं. वहां उनके खेल में कोचिंग का कोई दखल नहीं होता. इसी तरह से उनके कई स्टार्स ने खेल सीखा है. उनमें से एक धोनी है जो झारखंड के रांची शहर से आता है.’

ग्रेग चैपल ने लिखा,
एमएस धोनी के साथ मैंने काम किया है. वह अपनी प्रतिभा को तराशने और अपने ही तरीके से खेलने का एक उदाहरण हैं. अपने शुरुआती दिनों में अलग-अलग तरह की पिचों और अनुभवी लोगों के सामने खेलकर धोनी ने फैसले लेने और रणनीति बनाने की कला तैयार की. इसके चलते वह अपने कई साथियों से अलग थे. वह जिनसे भी मिला हूं उनमें से उसका दिमाग सबसे तेज था.

चैपल के कोच रहते धोनी ने मारे थे नाबाद 183 रन
धोनी ने अपना इंटरनेशनल करियर सौरव गांगुली की कप्तानी और जॉन राइट के कोच रहते शुरू किया था. फिर राहुल द्रविड़-ग्रेग चैपल के दौर में वे चमके. इन दोनों के कार्यकाल में ही उन्होंने नाबाद 183 रन की पारी श्रीलंका के खिलाफ खेली थी. बाद में वे टीम इंडिया के कप्तान बने. उनकी कप्तानी में भारत ने 2007 में टी20 वर्ल्ड कप, 2011 में 50 ओवर वर्ल्ड कप और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब जीता. इस तरह से वे तीन आईसीसी ट्रॉफी जीतने वाले पहले कप्तान और इकलौते कप्तान बने.

धोनी आखिरी बार साल 2019 के वर्ल्ड कप के रूप में इंटरनेशनल क्रिकेट में खेले. अगस्त 2020 में उन्होंने संन्यास का ऐलान कर दिया था.