ट्रेंडिंग देश -विदेश

वैक्सीनेशन न कराने वालों के लिए बड़ी मुसीबत बन सकता है Omicron, WHO ने किया आगाह

जेनेवा. कोरोना वायरस (Coronavirus) के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variant) के प्रसार के बारे में बढ़ती चिंताओं के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक शीर्ष अधिकारी ने रविवार को वैक्सीनेशन न कराने वालों को आगाह किया है. शीर्ष स्वास्थ्य संगठन ने कहा कि भारत में कोरोना का कम्युनिटी ट्रांसमिशन के स्टेज में प्रवेश कर चुका है और दुनिया भर के देशों में मामलों की भी ‘सुनामी’ शुरू हो गई है, हालांकि ओमिक्रॉन डेल्टा से कम गंभीर है लेकिन फिर भी डेल्टा, अभी भी एक खतरनाक वायरस है.

इन लोगों को ओमिक्रॉन से ज्यादा खतरा
कोविड -19 पर डब्ल्यूएचओ की तकनीकी प्रमुख, मारिया वैन केरखोव ने कहा, “जो लोग ओमिक्रॉन से संक्रमित हैं, उनमें बीमारी किसी भी स्तर तक जा सकती है. बिना लक्षण के संक्रमण से लेकर गंभीर बीमारी और मृत्यु तक सब कुछ संभव है. उन्होंने कहा हम जो सीख रहे हैं, वह यह है कि कमजोर इम्युनिटी वाले लोग, अधिक उम्र के लोग और जिन लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ है, उन्हें ओमिक्रॉन से संक्रमण के बाद कोविड -19 का गंभीर रूप हो सकता है.”

उन्होंने कहा कि लोग अभी भी ओमिक्रॉन से संक्रमित होने के बाद अस्पताल में भर्ती हैं और संक्रमण के कारण मर भी रहे हैं. सटीक डेटा के महत्व पर जोर देते हुए, उन्होंने कहा कि “जबकि जानकारी बताती है कि यह डेल्टा से कम गंभीर है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह हल्का है.”

ज्यादा तेजी से फैल रहा ओमिक्रॉन
यह पूछे जाने पर कि क्या सभी कभी न कभी ओमिक्रॉन के संपर्क में आ सकते हैं? उन्होंने कहा कि अन्य वेरिएंट ऑफ कंसर्न की तुलना में ओमिक्रॉन बहुत तेजी से फैलता है.” संक्रमण फैलने के मामले में ओमिक्रॉन के मामले में डेल्टा से आगे निकल रहे हैं और लोगों के बीच बहुत कुशलता से फैस रहे है. इसका मतलब यह नहीं है कि सभी कभी न कभी ओमिक्रॉन से संक्रमित हो सकते हैं. “

हालांकि, संक्रामक रोग महामारी विज्ञानी ने कहा कि दुनिया भर में मामलों की वृद्धि स्वास्थ्य देखभाल प्रणालियों पर एक महत्वपूर्ण बोझ डाल रही है, जो पहले से ही गंभीर रूप से अत्यधिक बोझ रहे दबे हुए हैं. “यह देखते हुए कि हम महामारी के तीसरे वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं.” उन्होंने कहा “अगर लोग संक्रमण की चपेट में आकर सही से आराम नहीं करते हैं और उन्हे उचित देखभाल नहीं मिलती है तो और लोग गंभीर बीमारी और मौत से खत्म हो जाएंगे, और यही वह चीज है जिसे हम रोकना चाहते हैं.”