छत्तीसगढ़ सियासत स्लाइडर

भाजयुमो का बवाल… आधे कार्यकर्ता पुलिस के सामने कर रहे थे नारेबाजी, दूसरी टीम ने चकमा देकर जलाया CM का पुतला… धक्का-मुक्की में गिर पड़े इंस्पेक्टर…

रायपुर में मंगलवार की शाम भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने जबरदस्त बवाल किया। CM का पुतला फूंकने के ऐलान के साथ सभी भाजयुमो कार्यकर्ता जय स्तंभ चौक पर पहुंचे। दूसरी तरफ मौदहापारा, आजाद चौक, गोलबाजार जैसे थानों के इंस्पेक्टर और सिटी SP तारकेश्वर पटेल भी अपनी टीम के साथ मुस्तैद थे। पुलिस यहां मुख्यमंत्री का पुतला जलने से रोकने आई थी।

पुलिस को कंफ्यूज करते हुए भारतीय जनता युवा मोर्चा के नेता जयस्तंभ चौक की परिक्रमा करते हुए नारेबाजी करने लगे। पीछे – पीछे पुलिस के अफसर भी चलते रहे। इतने में मौका पाकर सड़क की दूसरी तरफ कार्यकर्ताओं की एक अन्य टीम ने छुपाकर रखा मुख्यमंत्री का पुतला निकाला और अचानक आग लगा दी। भागकर पुलिसकर्मी पुतला छीनने लपके, तब तक कार्यकर्ता मुख्यमंत्री का पुतला जला चुके थे। कुछ कॉन्स्टेबल अपने साथ पानी की बोतल लेकर दौड़े और पुतले पर डाल दिया यह देखकर कार्यकर्ताओं ने पुलिस के हाथ से पानी की बोतल छीनी और उसे हवा में उछाल दी।

भाजयुमो का एलान- काले झंडे दिखाएंगे
भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय को लेकर CM के गोबर वाले बयान की हम निंदा करते हैं। अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पूरे राज्य में विरोध किया जाएगा। जहां भी मुख्यमंत्री के कार्यक्रम होंगे भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता काले झंडे दिखाकर विरोध करेंगे।

इंस्पेक्टर को दिया धक्का गिर पड़े
पुतला जलाकर सड़क पर दौड़-भाग मचा रहे कार्यकर्ताओं को संभालने आई पुलिस के साथ कुछ भाजयुमो नेता भिड़ गए। इंस्पेक्टर दुर्गेश रावटे को धक्का लगा और वो सड़क पर सामने से आ रही कार के करीब गिर पड़े। ये देखकर पुलिस के बाकी अफसर नाराज हो गए। भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस अफसरों के बीच झूमाझटकी शुरू हो गई। इस घटना पर अधिकारियों ने भाजयुमो पदाधिकारियों को फटकार भी लगाई।

इस वजह से बवाल
मंगलवार को सरकार की गोधन न्याय योजना पर निशाना साधते हुए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने प्रदेश में गोबर घोटाले का आरोप लगाया। जवाब में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कह दिया कि उनके दिमाग में ही गोबर भरा हुआ है। इस पर अब भाजपा भड़की हुई है। प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने इसे बदजुबानी बताते हुए मुख्यमंत्री को संयमित रहने की सलाह दी है।