छत्तीसगढ़ व्यापार स्लाइडर

Petrol-Diesel पर छत्तीसगढ़ में भी VAT घटाने की तैयारी, 6 रुपये तक की होगी कटौती, जानें- आज का Price

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के लोगों को जल्द ही पेट्रोल-डीजल की कीमतों (Petrol Diesel Price) में राहत मिलने की उम्मीद है. राज्य की भूपेश बघेल सरकार (Bhupesh Baghel Government) जल्द ही पेट्रोल-डीजल पर वैट (VAT) कम कर सकती है. इससे राज्य में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 6 रुपये तक की कमी आ सकती है. वाणिज्यिक कर विभाग ने पेट्रोल-डीजल पर वैट कम करने का प्रस्ताव तैयर कर राज्य सरकार को भेज दिया है. 22 नवंबर को भूपेश बघेल कैबिनेट की बैठक होनी है. इस बैठक में वैट कम करने का एजेंडा भी शामिल किया जा सकता है. बैठक में पेट्रोल-डीजल पर वैट कम करने का निर्णय लिया जा सकता है.

छत्तीसगढ़ के वाणिज्यिक कर मंत्री टीएस सिंहदेव बीते बुधवार को दिल्ली से लौटे. सिंहदेव ने मीडिया से चर्चा में बताया कि वाणिज्यिक कर विभाग ने वैट कटौती का प्रस्ताव सरकार को भेज दिया है. अब इस पर मुख्यमंत्री से चर्चा आगामी कैबिनेट की बैठक में होगी. अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री को ही लेना है. बता दें कि एक दिन पहले ही कांग्रेस शासित राजस्थान में पेट्रोल-डीजल पर वैट कम किए गए हैं. इससे छत्तीसगढ़ सरकार पर भी वैट कम करने का दबाव बढ़ा है. जल्द ही इसपर बड़ा फैसला लिया जा सकता है.

आज क्या हैं दाम?
बता दें कि केन्द्र सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी कम करने के बाद कीमतों में बहुत ज्यादा परिवर्तन नहीं हुआ है. केन्द्र सरकार ने बीते 3 नवंबर को एक्साइज ड्यूटी कम की थी. इसके बाद पेट्रोल डीजल के दाम में लगभग स्थिरता बनी हुई है. छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 18 नवंबर को पेट्रोल 101.86 रुपये प्रति लीटर की दर पर बेचा जा रहा है. जबकि डीजल की कीमत 93.78 रुपये प्रति लीटर है. पड़ोसी जिले दुर्ग में पेट्रोल 102.84 रुपये प्रति लीटर है. डीजल लगभग 94 रुपये प्रति लीटर है. बीते 8 नवंबर से अब तक पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई खास बदलाव नहीं हुआ है.

25 प्रतिशत VAT लेती है राज्य सरकार
बता दें कि पेट्रोल और डीजल पर नया वस्तु एवं सेवाकर (GST) लागू नहीं है. इस पर केंद्र सरकार एक्साइज ड्यूटी और सेस लगाती है. वहीं राज्य सरकारें VAT (वैल्यू एडेड टैक्स) लगाती हैं. छत्तीसगढ़ में सरकार दोनों पेट्रोलियम उत्पादों पर 25 प्रतिशत VAT लगाती है. इसकी दरें आखिरी बार 2018 में विधानसभा चुनाव से पहले तय हुई थीं. उसके बाद इसमें अब तक बदलाव नहीं किया गया है.