क्राइम छत्तीसगढ़ स्लाइडर

रेवेन्यू इंटेलिजेंस टीम की बड़ी कार्रवाई… रायपुर और राजनांदगांव से 42 करोड़ के सोने-चांदी के बिस्किट और रॉड बरामद… विदेशों से हो रही थी स्मगलिंग…

रायपुर/राजनांदगांव। शहर के नंदई स्थित जसराज शांतिलाल बैद फर्म के मोहनी ज्वेलर्स में सीबीआइसी (केंद्रीय उत्पाद व सीमा शुल्क) की टीम ने छापा मारकर 4.545 टन चांदी और 4.65 किलो सोने के अलावा 32.35 लाख रूपये बरामद किए हैं। बरामद सोना-चांदी और नगद रूपये को लेकर टीम लौट गई है। कुल बरामदगी करीब 42 करोड़ रुपये की बताई गई है।

पिछले दो दिनों से टीम अपनी कार्रवाई कर रही थी। सोमवार सुबह करीब पांच बजे जांच पूरी कर टीम फर्म के तीन लोगों को भी पूछताछ के लिए अपने साथ ले गई है। मामले को सोना-चांदी की तस्करी से जोड़कर बताया जा रहा है। हालांकि, स्थानीय अफसरों ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है।

केंद्रीय उत्पाद व सीमा शुल्क की टीम ने तस्करी की इनपुट मिलने के बाद बीते एक मई को दोपहर करीब 12 बजे राजनांदगांव शहर पहुंची थी। शहर पहुंचते ही टीम सीधे जसराज शांतिलाल बैद के नंदई स्थित मकान में रेड डाली।

छापेमारी की कार्रवाई रविवार को भी देर रात तक चली। टीम में 12 से अधिक लोग थे, जो तीन गाड़ियों में सवार होकर पहुंचे थे। जांच पड़ताल के दौरान अफसरों ने किसी को भीतर आने और बाहर जाने नहीं दिया। लगातार दो दिनों तक टीम छानबीन में जुटी हुई थी।

रायपुर से मिला थी इनपुट
खबर है कि टीम ने रायपुर से 13 किलाे सोना के साथ चार आरोपितों को हिरासत में लिया था। इनसे मिले इनपुट को लेकर ही टीम आरोपितों के साथ छापेमारी की। जांच के दौरान टीम ने मोहनी ज्वेलर्स को सील कर दिया। वहीं एक मकान को भी सील कर पड़ताल कर रहे थे। टीम ने स्थानीय पुलिस की भी मदद ली थी। लेकिन कार्रवाई के बाद भी टीम ने मीडिया से किसी तरह की कोई जानकारी साझा नहीं की।

कार्रवाई जारी है…
एएसपी कविलाश टंडन ने कहा कि रेवेन्यू इंटेलिजेंस की टीम ने रेड कार्रवाई कर जसराज शांतिलाल बैद के मोहनी ज्वलेर्स से पांच टन चांदी और साढ़े चार किलो सोना के साथ नगद 32 लाख रुपये बरामद किए हैं। टीम ने हमें केवल कार्रवाई की जानकारी देकर बल देने की अनुमति मांगी थी। कार्रवाई होने के बाद बरामद सोना-चांदी और नगद रुपये को रायपुर ले जाने के लिए भी बल दिया गया। कार्रवाई जारी है। फर्म के कुछ लोगों को टीम अपने साथ ले गए हैं। दस्तावेज मांगे जाएंगे। अगर सोना-चांदी के दस्तावेज नहीं दिखाए गए, तभी गिरफ्तारी हो सकती है।