क्राइम छत्तीसगढ़

घर से सैंपल कलेक्ट करने के नाम पर वसूले रुपए… फिर अपने मन से फर्जी लेटर्स पर पॉजिटिव-निगेटिव लिखकर लोगों को बांट दी रिपोर्ट…

रायपुर। रायपुर पुलिस ने फर्जी कोरोना रिपोर्ट देने वाले एक आरोपी को दबोचा है। बताया जा रहा है कि फर्जी लैब टेक्नीशियन घरों में जाकर कोरोना टेस्ट करता था और फर्जी रिपोर्ट देता है। इस तरह कई लोगों को चूना लगाया है। फर्जी लैब टेक्नीशियन के इस काले कारनामे के चलते कई लोगों की जान भी चली गई। वहीं इस मामले के खुलासे से पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया है।

मंदिर हसौद थाना पुलिस ने आरोपी युवक को गिरफ्तार किया है। आरोपित रेशम मगलेशकर उर्फ विजय को हिरासत में लेकर पुलिस पुछताछ कर रही है। आरोपित अपने आप को लैब टेक्निशियन बताकर घरों में जाकर कोरोना टेस्ट करता था। यही नहीं आरोपित अब तक करीब पांच हजार से ज्यादा लोगो को फर्जी रिपोर्ट दे चुका है। आरोपी के रिपोर्ट के आधार पर गलत इलाज होने से कई लोगो की जान भी जा चुकी है।

पुलिस ने बताया कि आरोपी घरों में जाकर लोगों का कोरोना टेस्ट करने के बाद निजी मेडिकल कॉलेज की फर्जी रिपोर्ट देता था। इस तरह आरोपी ने शहर के तेलीबांधा समेत कई इलाकों में जाकर कोरोना का टेस्ट किया है। वहीं इस मामले का खुलासा तब हुआ जब एक पीड़ित ने दूसरे जगह जांच कराई। पुलिस अभी आरोपित से पूछताछ कर रही है।

पुलिस के मुताबिक आरोपित टेक्निशियन दो हजार से, ढाई हजार रुपए तक पैसे लेकर लोगों को फर्जी रिपोर्ट देता था। आरोपित रायपुर के मंदिर हसौंद थाना इलाके के रिम्स मेडिकल कॉलेज की फर्जी रिपोर्ट देता था। पीड़ित परिवार ने पकड़कर उसे पुलिस के हवाले किया है।