टेक्नोलॉजी देश -विदेश स्लाइडर

भारत बायोटेक ने भी तय किए कोवैक्सीन के दाम… जानें किसे कितने में मिलेगा टीका…

नई दिल्ली. कोरोना महामारी (Coronavirus) संकट के बीच वैक्सीन की कीमतों पर मची रार बढ़ती दिख रही है. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने कोवैक्सीन (Covaxin) को प्राइवेट अस्पतालों के लिए 1200 रुपये प्रति डोज में बेचने का ऐलान किया है, राज्य सरकार के अस्पतालों को वैक्सीन 600 रुपये प्रति डोज में दी जाएगी. यानी वैक्सीन की पूरी खुराक के लिए 2400 और 1200 रुपये क्रमशः देने होंगे. बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के कोविशील्ड वैक्सीन को राज्य सरकारों को 400 और प्राइवेट अस्पतालों को 600 में बेचने पर काफी हंगामा मचा हुआ है.

हालांकि कई राज्य सरकारों ने अपने लोगों के मुफ्त टीकाकरण का ऐलान किया है. देश में 1 मई से 18 साल से ऊपर के लोगों का टीकाकरण किया जाएगा. भारत बायोटेक ने अपने एक बयान में कहा कि केंद्र सरकार के दिशानिर्देशों के मुताबिक कोवैक्सीन की कीमत तय कर दी है. राज्य सरकार के अस्पतालों के लिए वैक्सीन की प्रति खुराक कीमत 600 रुपये होगी, जबकि प्राइवेट अस्पतालों के लिए वैक्सीन की कीमत प्रति डोज 1200 रुपये होगी.

कोवैक्सीन की तीन करोड़ खुराक का उत्पादन
बीते मंगलवार को भारत बायोटेक के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक कृष्णा एल्ला ने बताया था कि कंपनी अगले महीने कोविड-19 टीके कोवैक्सीन की तीन करोड़ खुराक का उत्पादन करेगी. मार्च में कंपनी ने कोवैक्सीन की 1.5 करोड़ खुराक का उत्पादन किया था. वैक्सीन विनिर्माता ने अपने बयान में कहा कि उसने कोवैक्सीन की सालाना उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 70 करोड़ खुराक कर लिया है.

एल्ला का यह बयान ऐसे समय आया है, जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैक्सीन विनिर्माताओं से टीके का उत्पादन बढ़ाने को कहा है, जिसमें कम से कम समय में सभी भारतीयों का टीकाकरण किया जा सके. सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) और भारत बायोटेक को भविष्य में आपूर्ति बढ़ाने के लिए 4,500 करोड़ रुपये का अग्रिम भुगतान करने की भी अनुमति दी है.

एल्ला ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि कंपनी बेंगलुरु में दो नए वैक्सीन संयंत्रों को शुरू करने जा रही है. कंपनी ने शुरुआत में एक संयंत्र से उत्पादन शुरू किया था. अब कंपनी के हैदराबाद में चार संयंत्र परिचालन में हैं. एल्ला ने कहा, ‘‘पिछले महीने हमने डेढ़ करोड़ खुराक का उत्पादन किया था. इस महीने हम दो करोड़ खुराक का उत्पादन कर रहे हैं. अगले महीने हम तीन करोड़ खुराक का उत्पादन करेंगे. उसके बाद सात से साढ़े सात करोड़ खुराक का उत्पादन किया जाएगा.’’