क्राइम छत्तीसगढ़ स्लाइडर

नींद में पत्नी को थी बड़बड़ाने की बीमारी… परेशान पति ने घुमाने के बहाने कर दी थी हत्या…

File Photo

रायपुर. रात में नींद में पत्नी बड़बड़ाती थी। इससे उसका पति इतना नाराज हो गया कि उसे घुमाने के बहाने नया रायपुर ले गया। और बेरहमी से उसकी हत्या कर दी थी। हत्या के तीसरे दिन वह थाने में अपनी पत्नी की गुमशुदा होने की झूठी रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचा था। इस दौरान पूछताछ में उसके कारनामे का खुलासा हो गया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।

उल्लेखनीय है कि मंदिरहसौद इलाके के छेरीखेड़ी के पास खाली प्लाट में सोमवार की शाम गुढिय़ारी निवासी 30 वर्षीया स्मिता बाकचे का खून से लथपथ शव मिला था। उस समय उसकी पहचान नहीं हो पाई थी। गुरुवार को उसका पति राजेंद्र बाकचे अपनी पत्नी स्मिता की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचा था। इस दौरान पूछताछ में पुलिस को उस पर शक हुआ। और पुलिस ने कड़ाई से पूछताछ की। इसके बाद आरोपी ने अपनी पत्नी की हत्या करना स्वीकार किया।



शुक्रवार को मामले का खुलासा करते हुए एएसपी ग्रामीण तारकेश्वर और एएसपी क्राइम अभिषेक माहेश्वरी ने बताया कि मृतका स्मिता और उसके पति राजेंद्र के बीच पिछले एक माह से संबंध अच्छे नहीं थे। दोनों के बीच काफी झगड़ा होता था। स्मिता की मानसिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण वह अक्स रात में बड़बड़ाती रहती थी। इसी बात को लेकर दोनों के बीच विवाद होता था। इसके अलावा असामान्य हरकतें भी करती थीं।

घुमाने के बहाने लाया, फिर कर दी हत्या
पुलिस के मुताबिक महिला की मानसिक स्थिति ठीक नहीं होने से राजेंद्र काफी परेशान था। उसने झाडफ़ूंक के जरिए महिला का इलाज भी कराया, लेकिन इसमें सफलता नहीं मिली। रविवार को वह उसे घुमाने के बहाने नवा रायपुर लेकर आया। इस दौरान फिर उनका झगड़ा हो गया। इसके बाद राजेंद्र उसे छेरीखेड़ी के सूनसान स्थान पर ले गया और पत्थर से पीट-पीटकर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद भाग निकला।

पूछताछ में फंसा आरोपी
राजेंद्र सुपरवाइजर का काम करता था। दोनों के पांच साल की बेटी भी है। सोमवार को हत्या करने के बाद राजेंद्र घर चला गया। उसने गुमशुदा की रिपोर्ट भी दर्ज नहीं कराई। दूसरी ओर मंदिरहसौद पुलिस अज्ञात मानकर हत्यारे की तलाश में लगी थी। इस बीच गुरुवार को राजेंद्र मंदिरहसौद थाने पहुंचा। और अपनी पत्नी के लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराने लगा।

इस दौरान टीआई राजेंद्र कुमार दीवान ने उनसे महिला का हुलिया पूछा। आरोपी ने जैसे ही हुलिया बताया, टीआई को संदेह हुआ। इसके बाद उससे कई घंटे अलग-अलग पुलिस अधिकारियों ने पूछताछ की। बाद में आरोपी टूट गया और हत्या करना स्वीकार किया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया।